भाई के सामने दीदी की चुत चुदाई स्टोरी

(Bhai Ke Samne Didi Ki Chut Chudai Story)

चुत चुदाई स्टोरी की इस साईट पर आप सबको मेरा नमस्ते.. मेरा नाम दीपक है, मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ। मेरे परिवार में मॉम-डैड, दीदी और मुझे मिला कर हम 4 लोग हैं।

मैं अन्तर्वासना पर नया हूँ.. यह मेरी पहली चुत चुदाई स्टोरी है जो मेरी दीदी पूजा के बारे में है।

मेरी दीदी एक बहुत ही कमाल की लड़की है जिसे देख कर कोई भी मर्द पागल हो सकता है। दीदी की उम्र 22 साल की है, मैं 20 साल का हूँ। हम दोनों आपस में अच्छे फ्रेंड्स भी हैं, दोनों एक-दूसरे से कोई भी बात नहीं छिपाते हैं चाहे फिर सेक्स की बात ही क्यों ना हो।

मेरी दीदी का फिगर 32-28-34 का है और हाईट 5’6″ है। दीदी देखने में एक सेक्स बॉम्ब है। हमारी कॉलोनी के लौंडे उनके लिए मरते हैं।

बात 6 महीने पहले की है, जब मैं अपनी दीदी के कमरे में गया था। उस वक्त मैंने देखा कि दीदी कमरे की खिड़की से बाहर किसी को इशारे कर रही हैं। जब मैंने ये देखा तो मालूम किया तो हमारे घर के सामने वाले घर में जो लड़का था.. दीदी उसको इशारे में फ्लायिंग किस दे रही थीं।
मैं समझ गया कि इन दोनों के बीच में चक्कर चल रहा है.. पर मैं इस बात से हैरान था कि दीदी ने मुझे कभी इस बारे में क्यों नहीं बताया। जबकि उन्होंने मुझे अपनी पहले की एक चुदाई के बारे में तक बता दिया था।

उस लड़के का नाम सुनील था, वो देखने में काफ़ी अच्छा था। उसकी हाईट 5’9″ थी, वो जिम जाता था इसलिए उसकी बॉडी काफ़ी अच्छी थी। सुनील और मैं एक-दूसरे जानते थे.. मिलते भी थे, पर ऐसा होगा ये कभी नहीं सोचा था।

खैर.. उस वक्त मैं वहां से चला गया। जब दोपहर को लंच के टाइम में और दीदी मिले तो मैंने दीदी को बोला- अगर मैं आपसे कुछ पूछूँ.. तो आप सच बताओगी?
दीदी ने बोला- क्या मैंने कभी तुम से झूठ बोला है? मैं तो सब बातें तुमको बताती हूँ.. फिर तू ऐसा क्यों बोल रहा है?
मैंने दीदी से सीधा पूछ लिया- तुम्हारे और सुनील के बीच में क्या चल रहा है?

दीदी यह सुन कर चुप हो गईं.. मैंने फिर पूछा तो वो बोलीं- सॉरी मैंने तुमको इस बारे में नहीं बताया.. ये अभी का ही मामला है मुझे बताने का समय ही नहीं मिला।
मैंने कहा- ओके, तो अब बता दो न?
‘किसी से कहना मत दीपक…’
‘अभी तक तुमने मुझे जो कुछ भी बताया है.. मैंने ना तो किसी से कहा है और न ही मैं बुरा मानता हूँ।’

दीदी ने बताना शुरू किया- सुनील मुझे काफ़ी दिनों से चाहता है.. उसने मुझे कल ही प्रपोज किया था.. तो मैंने ‘हाँ’ कर दी। तुम तो जानते हो कि कॉलेज के बाद से मेरा कोई ब्वॉयफ्रेंड नहीं है.. और मैंने एक लड़के के साथ सेक्स भी कर लिया है.. पर सुनील के बारे में तुमको नहीं बता पाई।
मैंने दीदी की बात पर हामी भरते हुए सर हिला दिया।

फिर मैंने कहा- कोई बात बात नहीं.. ये तो चलता है। मैं भी आपको कुछ बताना चाहता हूँ।
तो दीदी बोलीं- क्या?
तो मैंने कहा- सुनील की बहन रजनी के साथ मेरा भी चक्कर चल रहा है।
यह सुन कर दीदी हंसने लगीं और बोलीं- कमीने भाई.. तुमने भी मुझे नहीं बताया।

फिर मैंने दीदी से पूछा- तुम्हारी बात कहाँ तक पहुँच गई है? मतलब किस-विस हुआ कि नहीं?
तो दीदी ने कहा- अभी तो सिर्फ़ किस और बूब्स रबिंग तक ही सीमित रहा.. क्योंकि टाइम ही नहीं मिला। वो तो चुदाई के लिए बहुत बोल रहा था.. पर टाइम और जगह नहीं मिली।

मैंने दीदी के मुँह से चुदाई की बात सुनकर अपना लंड सहलाया।

दीदी ने मुझे लंड सहलाते हुए देखा और मुस्कुरा कर दूध उठा कर दिखाते हुए कहा- भाई मेरा भी चुदाई का मन कर रहा है.. तुम ऐसा कुछ प्लान बनाओ जिससे तुम उसकी बहन को चोद सको और वो तुम्हारी बहन चोद सके।

इस बात पर हम दोनों खुल कर हंस दिए।

फिर मैंने दीदी को बोला- तुम नींद की गोलियां रात को दूध में मिला कर मॉम-डैड को दे देना और फिर उसको घर में बुला लेना।
यह सुन कर दीदी खुश हो गईं।
वो बोलीं- लेकिन तुम उसके घर कैसे जाओगे?
मैंने बोला- मैं आज नहीं जाऊँगा मेरा कुछ और प्लान है.. वो मैं बाद में बताऊँगा।

फिर हम दोनों शाम का इंतजार करने लगे। दीदी ने सुनील को फोन करके सब प्लान बता दिया.. पर उसने सुनील को मेरे बारे में कुछ नहीं बताया।

जब रात को 9 बजे खाना खा कर मॉम-डैड ने दूध पिया.. तो उसके बाद वो दोनों सो गए.. दवा ने अपना काम कर दिया था।

अब दीदी ने बोला- भाई तुम भी सो जाओ।
मैंने कहा- मैं नहीं सोऊँगा.. मैं तो अपनी दीदी की लाइव चुदाई देखूँगा।

दीदी हंसने लगीं और उन्होंने मुझे गले लगाया तो मुझे उनके भरे हुए चुचे बड़े मस्त लगे, मैंने जी भर के दीदी को अपने सीने से चिपका कर उनके चुचों का रगड़ सुख लिया।

दीदी को भी मेरे अकड़ते लंड से समझ में आ गया था और उन्होंने मुझे अपने सीने से न केवल लगाए रखा.. बल्कि मुझे माथे पर चूमा भी।

फिर मैंने बोला- तुम और सुनील ऊपर वाले कमरे में चले जाना.. मैं वहां छिप जाता हूँ।

दीदी ने सुनील को फोन किया और वो घर में आ गया। दीदी उसको लेकर ऊपर वाले कमरे में चली गईं.. जहाँ मैं छिपा था।

वहां आते ही सुनील ने दीदी को पकड़ लिया और चूमने लगा। दीदी भी उसको चूम रही थी।
फिर उसने दीदी के सारे कपड़े निकाल दिए और दीदी ने सुनील के सारे कपड़े निकाल दिए। वे दोनों नंगे हो गए थे.. दीदी के मस्त मम्मे देख कर मेरा तो लंड खड़ा हो गया था।

उधर दीदी को देख कर सुनील तो जैसे पागल हो गया था। सुनील का लंड भी काफ़ी बड़ा था। करीबन साढ़े पांच इंच का बहुत मोटा लंड था। दीदी को सुनील ने अपना लंड चूसने को बोला.. दीदी ने भी देर नहीं की और उसका लंड चूसने लगीं।

दीदी इस वक्त लंड चूसते हुए एकदम मस्त रंडी लग रही थी।
यह चुत चुदाई स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

फिर सुनील ने दीदी को ज़मीन पर सीधा लेटाया और दीदी की झांट रहित चुत को चूसने लगा। दीदी के मुँह से निकलती ‘इसस्स्स्स्स्.. उम्म्म..’ की आवाज़ से कमरा गूँज रहा था।

अब तक तो मेरा सारा माल निकल चुका था। उसके बाद सुनील ने अपना लंड दीदी की चुत पर रखा और ज़ोर से धक्का मार दिया। सुनील का पूरा लंड दीदी की चुत में घुसता चला गया। दीदी की चीख निकल गई और उनकी आँख में आँसू आ गए। लेकिन सुनील तो जैसे और जोश आ गया और वो तेज-तेज धक्का मारने लगा।

दीदी दर्द से तड़फ रही थीं- ओह.. बहुत दर्द हो रहा है.. मैं मर गई.. उम्म्ह… अहह… हय… याह… निकालो अपना लंड बाहर.. मुझे नहीं चुदना है.. उई..’

ये सब देख कर मुझे भी बहुत मजा आ रहा था और सुनील भी अपनी फुल स्पीड से दीदी की चुत चोदने में लगा था।

ऐसा नहीं है कि दीदी की चुदाई पहले कभी नहीं हुई.. पर काफ़ी दिनों के बाद हो रही थी और सुनील का लंड भी काफ़ी बड़ा था.. इसलिए दीदी को दर्द हो रहा था।

फिर कुछ धक्कों के बाद दीदी नॉर्मल होकर सुनील का साथ देने लगीं, अब दीदी ‘फक मी फक मी..’ बोल रही थी।

वे दोनों अपनी चुदाई में मस्त थे, दीदी भी ये भूल गई थी कि मैं भी उस कमरे में हूँ। लगभग 20 मिनट की चुदाई के बाद सुनील का पानी दीदी की चुत में निकल गया और वो दोनों निढाल हो गए।

अब तक मैं भी मुठ मार चुका था और दीदी भी झड़ चुकी थीं।

इसके बाद आगे क्या-क्या हुआ.. दीदी की चुदाई के बाद मैंने सुनील की बहन रजनी को कैसे चोदा ये सब मैं आपको अगली चुदाई की कहानी में बताऊँगा.. मुझे मेल कीजिएगा।
poojasharmade[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top